33 C
Mumbai
Wednesday, April 21, 2021
Home NEWS दिल्ली: स्वास्थ्य मंत्री बोले- इस बार अपर क्लास और अपर मिडिल क्लास...

दिल्ली: स्वास्थ्य मंत्री बोले- इस बार अपर क्लास और अपर मिडिल क्लास में Corona केस ज्यादा

देश के कई राज्यों में कोरोना की दूसरी लहर के चलते हर दिन रिकॉर्ड मामले दर्ज किए जा रहे हैं. वहीं राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी कोरोना संक्रमण के नए मामले लगातार सामने आ रहे हैं. पिछले 24 घंटों  में दिल्ली में 3594 पॉजिटिव केस पाए गए हैं. वहीं  87 हजार से ज्यादा टेस्ट किए गए थे जिनमें पॉजिटिविटी 4.11 फीसदी पर चल रही है.

लोगो कोविड उपयुक्त व्यवहार का करें पालन

वहीं दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने आज कहा कि, दिल्ली में और पूरे देश में कोरोना तेजी से बढ़ रहा है लोगों से यह अपील है की कोविड उपयुक्त बिहेवियर का पालन करें, मास्क लगाएं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और अपने हाथों को बार-बार धोएं, इसका बिल्कुल ध्यान रखें. उन्होंने कहा कि अगर लोग सतर्क रहेंगे तो संक्रमण को रोका जा सकता हैं, पहले भी रोक कर दिखाया था. पिछले 3 महीने लोगों ने सभी नियम का पालन किया था और इस को काबू में किया था और अगर फिर से वैसे ही नियम पालन करेंगे तो हम फिर काबू पा लेंगे.

दिल्ली में टेस्टिंग और ट्रेसिंग सभी राज्यों के मुकाबले ज्यादा  

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि दिल्ली में बीते दिन 87,505 टेस्ट किए गए थे. किसी भी राज्य में नियम के हिसाब से हम सबसे ज्यादा टेस्ट कर रहे हैं. दिल्ली में औसत से 5 गुना ज्यादा टेस्ट किए जा रहे हैं. विशेषज्ञों के हिसाब से अधिकतम 40 से 50 हजार टेस्टिंग प्रतिदिन होनी चाहिए हम उसकी दुगनी कर रहे हैं टेस्टिंग के साथ ट्रेसिंग भी कर रहे हैं. संक्रमितों के कॉन्टेक्ट को ट्रेस किया जा रहा है और उन्हें आइसोलेट भी कर रहे हैं.  कोई भी पॉजिटिव केस मिलने पर  उसके परिवार का और  उसके  संपर्क में आने वाले सभी लोगों को टेस्ट किया जाता है.

दिल्ली पूरी तरह सतर्क है

सत्येंद्र जैन ने आगे कहा कि, “दिल्ली सरकार सभी आवश्यक कदम उठा रही है.  प्राइवेट अस्पतालों में हमने बेड बढ़ा दिए हैं. आईसीयू बेड की संख्या भी बढ़ा दी है. अभी करीब एक तिहाई बेड पर मरीज भर्ती है दिल्ली पूरी तरह सतर्क है और जैसे भी परिस्थिति होती है उसके हिसाब से निर्णय लेंगे.

अपर क्लास में ज़्यादा संक्रमण के मामले हैं

वहीं उन्होंने कहा कि ऐसा ट्रेंड देखने में आ रहा है जो अपर क्लास या अपर मिडिल क्लास वाले लोग हैं उनमें केस ज्यादा देखने को मिल रहे हैं. इसका कोई कारण कहना मुश्किल है लेकिन लोगों से बातचीत के आधार पर यह समझ आया है कि जितने भी घनी आबादी वाले एरिया है या स्लम है उनमें पहले और दूसरे फेज़ में ही काफी ज्यादा कोरोना फैल चुका था.

मामले पहले से कम गंभीर हैं

उन्होंने कहा कि यह वायरस जिस तरह से व्यवहार कर रहा है उसमें समझ आ रहा है कि इसकी बढ़ने की संख्या काफी ज्यादा है. अब एक परिवार में एक या दो सदस्य नहीं बल्कि पूरा परिवार संक्रमित मिल रहा है. लेकिन देखने में यह भी आ रहा है कि मामले पहले से कम गंभीर है और मौतें भी कम हो रही हैं. सिर्फ दिल्ली में ही नहीं पूरे देश में यह ट्रेंड देखने को मिल रहा है. लोगों से हमें अपील भी करनी पड़ेगी. सख्ती कर रहे हैं लेकिन अपील करना भी जरूरी है. 2 करोड़ की आबादी है इसलिए हम लोगों से लगातार कह रहे हैं कि मास्क जरूर लगाएं.

कंटेमेंट जोन को लेकर दिल्ली सरकार सख्त

सत्येंद्र जैन ने कहा कि कंटेनमेंट जोन में एक ही जगह पर अगर दो या तीन केस आते हैं तो उसे कंटेनमेंट जोन बनाकर उस एरिया को सील कर दिया जाता है. मुझे लगता है कि इससे ज्यादा कठोर नियम करने की जरूरत नहीं है

अगले कई फेज के लिए दिल्ली सरकार तैयार

हेल्थ मैनेजमेंट प्लान को लेकर उन्होने कहा कि,” हमने अगले कई फेज़ के लिए पूरी तैयारी कर रखी है. अगर केस बढ़ते हैं तो हम बेड और ज्यादा बढ़ा देंगे. जब केस कम हो रहे थे तो हमने प्राइवेट अस्पतालों में बेड कम कर के 15% तक कर दिए थे. उससे पहले 60 परसेंट बेड रिज़र्व थे. Escalation प्लान में हमने 25% किया है आगे 40 50 फिर 60 करेंगे. आज भी ऑक्यूपेंसी 50% से कम है.”

ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटर बनाए जाने पर किया जा रहा विचार

वहीं दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने वैक्सीनेशन को बढ़ाने के सवाल पर कहा कि, “हॉस्पिटल में हमने सुबह के 9 बजे से लेकर रात के 9 बजे तक वैक्सीनेशन का समय रख दिया है. ज़्यादातर सेंटर में यही समय है. हॉस्पिटल में एक फायदा और भी है कि 3 बजे के बाद रात के 9 बजे तक आप बिना रजिस्ट्रेशन के भी वैक्सीन लगवा सकते हैं. अभी केंद्र सरकार ने जो प्रोटोकोल बनाया हुआ है उसके हिसाब से जो जगह की रिक्वायरमेंट है वह काफी ज्यादा है जिसके चलते अभी मोहल्ला क्लीनिक में वैक्सीनेशन नहीं हो पा रही हैं. लेकिन हमने कहा है कि हमें और सेंटर्स  बनाने की इजाजत दी जाए. स्कूलों में और कम्युनिटी हॉल में सेंटर बनाए जा सकते हैं केंद्र सरकार की इजाजत मिलने का इंतजार कर रहे हैं जिससे बड़ी संख्या में लोगों का टीकाकरण किया जा सके.

ये भी पढ़ें

Coronavirus: AIIMS डायरेक्टर से जानिए- क्यों सभी लोगों को एक साथ वैक्सीन नहीं दी जा सकती?

असम: पीएम मोदी बोले- जनता के प्यार-आशीर्वाद के आधार पर कहता हूं- NDA की सरकार बनना तय

 

Source link

Most Popular

EnglishGujaratiHindiMarathiUrdu