33 C
Mumbai
Friday, January 22, 2021
Home NEWS पटना में हुई इंडिगो मैनेजर की हत्या, तेजस्वी यादव बोले- बिहार में...

पटना में हुई इंडिगो मैनेजर की हत्या, तेजस्वी यादव बोले- बिहार में अब अपराधी ही सरकार चला रहे हैं

पटना: राजधानी पटना में मंगलवार को इंडिगो के मैनेजर रूपेश कुमार सिंह की दिनदहाड़े हुई हत्या को लेकर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बिहार सरकार पर बड़ा हमला बोला है. तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में अब अपराधी ही सरकार चला रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि रूपेश की हत्या सत्ता संरक्षित अपराधियों ने की.

तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया, “सत्ता संरक्षित अपराधियों ने पटना में एयरपोर्ट मैनेजर रूपेश कुमार सिंह की उनके आवास के बाहर गोलियां मार हत्या कर दी. वह मिलनसार और मददगार स्वभाव के धनी थे. उनकी असामयिक मृत्यु से बहुत दुखी हूं. भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे. बिहार में अब अपराधी ही सरकार चला रहे हैं.”

दिनदहाड़े गोलियों से भूना

रूपेश कुमार को बदमाशों ने शाम करीब साढ़े चार बजे तब गोली मारी जब वो ऑफिस से लौटे थे. उन पर करीब 6 राउंड गोलियां चलाई गईं. स्थानीय लोगों के मुताबिक अपराधी घटना को अंजाम देने के बाद वहां से फरार हो गए. घटना के बाद आनन फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. इस मामले में अभी तक पुलिस के हाथ खाली हैं. पटना के एसएसपी उपेंद्र शर्मा का कहना है कि अभी मामले की जांच की जा रही है. रूपेश छपरा के रहने वाले थे और पटना में पुनाईचक में रहते थे.

छुट्टी मनाकर कल ही लौटे थे गोवा से

घटना के संबंध में रूपेश के दोस्त शैलेन्द्र प्रताप ने बताया कि रूपेश को आज ऑफिस लौटने के दौरान गोली मारी गई है. उन्होंने बताया कि रूपेश काफी सुलझा हुआ इंसान था. उसका कभी किसी से कोई विवाद उनके सामने नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि रूपेश काफी सामाजिक व्यक्ति थे, सामाजिक कामों में हिस्सा लेते थे. रूपेश के दोस्त ने कहा कि रूपेश कल ही गोवा से छुट्टी मनाकर लौटा था और आज ये हादसा हो गया. उन्होंने बताया कि पटना में वो अपनी पत्नी और दो बाच्चों के साथ रहते थे.

बीजेपी सांसद ने पुलिस पर उठाए सवाल

बीजेपी नेता एवं राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर ने पटना में हुई हत्या को दुखद और गंभीर बताया. उन्होंने कहा, “शून्य आपराधिक पृष्ठभूमि वाले व्यक्ति की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या होना दुर्भाग्यपूर्ण है, यह बिहार में एनडीए की नवनिर्वाचित सरकार के लिए चुनौतीपूर्ण स्थिति है. ये घटना बिहार पुलिस पर प्रश्नवाचक चिन्ह है.”

विवेक ठाकुर ने कहा पुलिस को तीन से पांच दिनों के अंदर एक निष्कर्ष पर आना ही पड़ेगा. बिहार पुलिस अपनी सक्षमता से स्थिति का जायजा ले और अगर सफलता दूर लगे तो केस को बिना देर किए सीबीआई को सौंपे. विवेक ठाकुर ने कहा कि रूपेश अपने क्षेत्र में सामाजिक रूप से बहुत काम करते थे और लोकप्रिय थे. क्या ये हत्या राजनीति से प्रेरित है या राज्य में खौफ पैदा करने की कोशिश है. प्रशासन अविलंब अपराधियों को गिरफ्तार करे.

ये भी पढ़ें:

SC Stay on Farm Laws 2020: सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानून पर रोक लगाई, चार सदस्यों की एक कमेटी बनाई 

India-China Standoff: सेना प्रमुख का एलान, पूर्वी लद्दाख ही नहीं, LAC पर किसी भी चुनौती से निपटने को तैयार 

Source link

Most Popular

EnglishGujaratiHindiMarathiUrdu