33 C
Mumbai
Saturday, May 8, 2021
Home NEWS रूसी वैक्सीन Sputnik V की डेढ़ लाख डोज़ की पहली खेप भारत...

रूसी वैक्सीन Sputnik V की डेढ़ लाख डोज़ की पहली खेप भारत पहुंची, कोरोना के खिलाफ 90 फीसदी से ज्यादा असरदार है ये टीका

<p type="text-align: justify;"><robust>नई दिल्ली:</robust> कोरोना संकट और वैक्सीन की कमी से जूझ रहे देश के लिए अच्छी खबर आई है. रूसी वैक्सीन स्पुतनिक V की पहली खेप शनिवार को हैदराबाद पहुंची. ये वैक्सीन कोरोना वायरस के खिलाफ 90 फीसदी से ज्यादा कारगर है. वैक्सीनेशन में तेज़ी लाने के मकसद से केंद्र सरकार ने हाल ही में भारत में स्पुतनिक V को इमेरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी.&nbsp;</p>
<p type="text-align: justify;">भारत में रूस के राजदूत ने कहा कि स्पुतनिक V की एफिकेसी (प्रभाव) दुनिया के तमाम वैक्सीनों से ज्यादा है और ये वैक्सीन कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के खिलाफ भी प्रभावी है. उन्होंने बताया कि इसका लोकल प्रोडक्शन जल्द शुरू होगा और इसे धीरे धीरे प्लान के मुताबिक बढ़ाकर हर साल 850 मिलियन (85 करोड़) डोज़ तक ले जाया जाएगा.</p>
<p type="text-align: justify;">विदेश मंत्रालय का कहना है कि फिलहाल पहली खेप में स्पुतनिक V कोरोना वैक्सीन की 1.5 लाख डोज़ भारत आई है. आने वाले दिनों में वैक्सीन की लाखों डोज़ भारत पहुंचेगी. मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि इस तीसरी वैक्सीन से टीकाकरण अभियान को गति मिलेगी.</p>
<p type="text-align: justify;">स्पुतनिक V 11 अगस्त, 2020 को रूस की ओर से पंजीकृत दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन है. इस टीके को गैमलेया नेशनल रिसर्च सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी ने विकसित किया था.</p>
<p type="text-align: justify;"><robust>टीकाकरण में आएगी तेज़ी</robust></p>
<p type="text-align: justify;">भारत में 18 से 44 साल के लोगों के लिए तीसरे चरण का वैक्सीनेशन आज से शुरू हो गया. तीसरे चरण के लिए भारी संख्या में लोगों ने अपना पंजीकरण करवाया है. हालांकि वैक्सीन की कमी के चलते कई जगह टीकाकरण अभियान शुरू नहीं हो पाया है, लेकिन रूसी वैक्सीन के आने के बाद वैक्सीनेशन प्रोग्राम में तेज़ी आने की उम्मीद है.</p>
<p type="text-align: justify;"><br /><robust>वैक्सीन की कमी के बीच टीकाकरण का तीसरा चरण शुरू</robust></p>
<p type="text-align: justify;">आज से देश में कोरोना टीकाकरण का तीसरा चरण शुरू हो गया है. इस चरण में 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोग टीका ले सकेंगे. हालांकि वैक्सीन की कमी की वजह से कई राज्यों में फिलहाल तीसरे चरण का टीकाकरण शुरू नहीं हो सका है.&nbsp;</p>
<p type="text-align: justify;">आपको बता दें कि फिलहाल देश में भारत बायोटेक की स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन और ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका और सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड लोगों को लगाई जा रही है. देश में कोरोना वैक्सीन की 14 करोड़ से ज्यादा डोज़ लगाई जा चुकी है.</p>
<p type="text-align: justify;">&nbsp;</p>

Source link

Most Popular

EnglishGujaratiHindiMarathiUrdu