Bigg Boss की एक्स कंटेस्टेंट Arshi khan ने लगाए Salman Khan पर पक्षपात के अरोप, कहा- इस शो के वीनर है एजाज खान

Bigg Boss की एक्स कंटेस्टेंट Arshi khan ने लगाए Salman Khan पर पक्षपात के अरोप, कहा- इस शो के वीनर है एजाज खान

 

अर्शी खान अक्सर बिग बॉस शो के बारे में अपनी टिप्पणियों और राय के लिए सुर्खियों में बनी रहती हैं. अर्शी खान जो खुद बिग बॉस सीजन 11 की कंटेस्टेंट रह चुकी हैं. अर्शी खान एक बार फिर से बयान को लेकर लाइमलाइट में है. उन्होंने कहा, ”बिग बॉस 14 के मेकर्स एजाज खान की ज्यादा तरफदारी करते दिखते हैं. इस शो में हमेशा एजाज खान को बचाया जाएगा तो पिछले सीजन में सिद्धार्थ की तरह उन्हें भी विनर बना दिया जाएगा.”

 

हाल ही में एक इंटरव्यू में चल रहे बिग बॉस 14 सीज़न के बारे में बात करते हुए अर्शी ने बताया कि उनके अनुसार कौन ट्रॉफी घर ले जाएगा. वो कविता कौशिक के बारे में कैसा महसूस करती है और एजाज खान को एक शो के जरिए उनको अच्छा दिखाने में लगा हुआ है. अर्शी खान ने कहा, “कविता और एजाज खान काफी लंबी गेम खेलने वाले हैं. वहीं सलमान खान एजाज को उसी तरह का समर्थन दे रहे है जो पिछले साल के सीजन में सिद्धार्थ शुक्ला को मिला था.”

 

अर्शी खान आगे कहती है, “मुझे लगता है कि कविता कौशिक अंदर की सबसे सच्ची शख्सियत हैं. वो सिर्फ खुद को पसंद करती हैं और घर में वो जैसी हैं वैसे ही वो बाहर हैं. लोग उन्हें निशाना बना रहे हैं और हर समय उनका मजाक उड़ाते रहते हैं. कोई भी इस तरह की प्रतिक्रिया देगा तो उनको कही न कही गुस्सा तो आएगा ही. मुझे लगता है कि एजाज खान घर में अपनी उपस्थिति को लेकर पूरी तरह असुरक्षित महसूस करते हैं. हो सकता है कि वो उनके बारे में बहुत सारे रहस्य जानती हों और वो इससे डरते है कि कही बाहर न आ जाए. अगर कविता अपना मुंह खोलेगी, तो वह बेनकाब हो जाएगा.”

 

अर्शी खान को ये भी लगता है कि शो के मेकर्स एजाज खान की इमेज को सुधार रहे हैं और सलमान खान भी. जैसे पिछले सीजन में वो सिद्धार्थ शुक्ला के साथ थे. इसमें कोई शक नहीं कि बिग बॉस एक ऐसा शो है जहां सब कुछ वास्तविक है. कई बार ये छवि पर कंटेस्टेंटस के लिए एक जोखिम होता है. वो कविता कौशिक को खराब रोशनी में दिखाने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि वो पूरी तरह से एजाज खान के प्रति पक्षपाती हैं और उन्हें एक के रूप में दिखा रहे हैं. पिछले सीज़न में भी, वो पूरी तरह से सिद्धार्थ शुक्ला के पक्ष में थे.’

Source link