33 C
Mumbai
Saturday, July 31, 2021
Home Health-Fitness Health Tips: विटामिन डी और विटामिन सी का उपयोग है मेटाबोलिज्म सिंड्रोम...

Health Tips: विटामिन डी और विटामिन सी का उपयोग है मेटाबोलिज्म सिंड्रोम की काट, जानें दोनों में से कौन है बेहतर

Health Tips: शरीर को स्वस्थ और सुचारू रूप से चलाने के लिए कई चीज़ों का सहारा लेना पड़ता है. स्वस्थ शरीर के पीछे- व्यायाम, नियमित खानपान, परफेक्ट डेली रूटीन, कम तनाव, पौष्टिक आहार आदि कितने ही स्तंभ खड़े होते हैं तब जाकर व्यक्ति को एक चुस्त दुरुस्त शरीर मिलता है. आज हम ऐसे ही दो पोषक तत्वों के बारे में बात करेंगे जो न सिर्फ आपके शरीर को ताकत देने के लिए बेहद ज़रूरी हैं बल्कि बीमारियों को शरीर से दूर रखने में भी कारगर हैं. इसके अलावा, आज हम आपको इनमें मौजूद उन गुणों की जानकारी भी देंगे जो आपके शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद हैं और साथ ही बताएंगे की कौन सा विटामिन आपके लिए है ज़्यादा बेहतर.

1. विटामिन डी और सी

शरीर को स्वस्थ रूप से चलाने के लिए विटामिन-डी और विटामिन-सी को बेहद अहम माना गया है. विटामिन डी और सी के स्तर का मेटाबोलिज्म सिंड्रोम कंपोनेंट्स के साथ उलटा संबंध होता है. इन दोनों ही विटामिन्स को मेटाबोलिज्म गतिविधियों को खत्म करने के दौरान एंटीऑक्सिडेंट पूरक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. कुछ अध्ययनों के मुताबिक शारीरिक गतिविधि के साथ विटामिन डी या विटामिन सी का सेवन मेटाबोलिज्म सिंड्रोम के खतरे को कम कर सकता है.

2. विटामिन डी का इम्पोर्टेन्ट रोल

हड्डियों और दांतों को मज़बूत रखने वाले कैल्शियम और फास्फोरस को अवशोषित और विनियमित करने के लिए विटामिन डी एक सहायक तत्व है. विटामिन-डी आपके शरीर में इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करता है. इतना ही नहीं, विटामिन-डी आपके इम्यून ब्रेन और नर्वस सिस्टम को सक्रिय करने का काम भी करता है. इसके अलावा, आपके जीन, मांसपेशियां और फेफड़े विटामिन-डी की ही मदद से अच्छी तरह काम पाते हैं. शरीर में विटामिन डी की कमी होना एक गंभीर समस्या है जिसे नज़रंदाज़ करना आपके शरीर के लिए कई सीरियस बीमारियों को न्यौता देने जैसा है.

3. विटामिन-डी की पर्याप्त मात्रा को ऐसे करें पूरा

अक्सर लोग विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए विटामिन डी कैप्सूल्स खाते हैं. लेकिन आपको बता दें कि, विटामिन डी की कमी को आप नेचुरल तरीके से भी भर सकते हैं. सूर्य विटामिन डी का प्राकृतिक स्रोत है, लिहाज़ा रोज़ कम से कम 15 मिनट तक धुप में रहने से आप विटामिन डी की कमी को एक अच्छी मात्र में पूरा कर सकते हैं. ध्यान रखें कि इन 15 मिनटों तक आपके चेहरे पर किसी प्रकार की कोई सनब्लॉक क्रीम या सनस्क्रीन लोशन न हो. इसके अलावा, आप विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे: सामन, टूना, मछली का तेल, जिगर, पनीर और अंडे की जर्दी का सेवन कर, इसकी कमी को दूर कर सकते हैं.

4. अधिक मात्रा में विटामिन डी है खतनाक

विटामिन डी फैट में घुलनशील होता है, जिसका अर्थ है कि यह आपके वसा में जमा होता है. अगर आप बहुत अधिक इसका सेवन करते हैं तो आपका शरीर इसे आसानी से साफ नहीं कर पाएगा जिससे कैल्शियम का स्तर प्रभावित होगा, जो आपके हृदय और रक्त वाहिकाओं, फेफड़ों और गुर्दे के लिए बहुत ही नुक्सानदायक है. विटामिन डी का अधिक सेवन आपको सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, मुंह में एक धातु का स्वाद, मतली या उल्टी, कब्ज़ या दस्त जैसी समस्याओं का सामना करवा सकता है.

5. विटामिन-सी के गुण

विटामिन सी आपके लिए कितना फायदेमंद होता है ये तो आप सभी जानते हैं. ये संक्रमण से लड़ने में आपकी बहुत मदद करता है और ये इम्यून सिस्टम को भी मजबूत करने का काम करता है. विटामिन सी हृदय और प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है, रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में मदद करता है और लोहे के अवशोषण में मदद करता है. इसके अलावा विटामिन सी आपके बालों और त्वचा को स्वस्थ रखने में भी बेहद सहायक है.

6. हानिकारक है विटामिन-सी का ज़्यादा सेवन

वैसे तो बहुत ज़्यादा विटामिन-सी से भरपूर आहार लेने से कोई हानिकारक संभावना नहीं है, मगर इसकी खुराक के कारण मेगाडोज़ हो सकता है. जैसे कि-

– दस्त

– जी मिचलाना

– उल्टी

– पेट में जलन

– पेट में मरोड़

– सिरदर्द

– अनिद्रा की समस्या

Chanakya Niti: धन की देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करना है तो चाणक्य की इन बातों को जान लें

Source link

Most Popular

EnglishGujaratiHindiMarathiUrdu