33 C
Mumbai
Saturday, February 27, 2021
Home Technology iPhone को Android फोन से बिल्कुल अलग बनाते हैं, ये 5 कमाल...

iPhone को Android फोन से बिल्कुल अलग बनाते हैं, ये 5 कमाल के फीचर्स


(*5*)मार्केट में पिछले लंबे वक्त से दो तरह के फोन का दबदबा रहा है. एक iPhone और दूसरा एंड्राइड स्मार्टफोन के मुकाबले की लड़ाई कभी खत्म होने वाली नहीं है। iPhone और Android स्मार्टफोन. हालांकि दोनों फोन निर्माता कंपनी यूजर्स को अपनी ओर अट्रैक्ट करने के ले और स्मार्टफोन इंडस्ट्री में खुद को बेहतर साबित करने की लिए लगातार कॉम्पटीशन करती रहती हैं. एक ओर iPhone अपने स्मार्टफोन से यूजर्स को इनोवेटिव और इंडस्ट्री लीडिंग फीचर, सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर उपलब्ध कराने की कोशिश करता है. वहीं दूसरी ओर एंड्राइड स्मार्टफोन निर्माता भी लेटेस्ट फीचर्स और किफायती कीमत के जरिए लोगों को अपनी ओर खींचने में लगे हैं. पूरी दुनिया में दोनों तरह के यूजर्स की बड़ी संख्या है. हालांकि iPhone में कई ऐसे फीचर्स दिए गए हैं जो एंड्राइड फोन में आपको कहीं नहीं मिलेंगे. iPhone के iOS 14 सॉफ्टवेयर अपडेट के बाद यूजर प्राइवेसी का खास ख्याल रखा जा रहा है. इंटरनेट कंपनियों और ऐप्स को आपके डेटा के इस्तेमाल की पूरी जानकारी देनी होगी. यानि आपके फोन में मौजूद ऐप्स आपके कौन से डेटा का कहां इस्तेमाल करती हैं इसकी पूरी जानकारी iPhone में मिलेगी. आज हम आपको iPhone के ऐसे ही बड़े काम के 5 फीचर्स के बारे में बता रहे हैं. ये फीचर्स आपको एंड्राइड बेस्ड स्मार्टफोन में कहीं नहीं मिलेंगे. आइये जानते हैं.

(*5*)1 डेटा स्टोरेज और यूजेज- अब iPhone का एक नया नियम है, जिसमें सभी iPhone ऐप को यूजर्स के डेटा स्टोरेज और इस्तेमाल की जानकारी देनी होगी. यानि iPhone App यूजर के किस डेटा को एक्सेस करते हैं और इसका कहां यूज और स्टोरेज किया जाता है. ये पॉलिसी प्राइवेसी के लिहाज से काफी अहम है. Apple की ओर से App Store अपडेट के जरिए यूजर को इसकी जानकारी दी जाती है. जबकि एंड्राइड ऐप आपको आपके डेटा के इस्तेमाल की कोई जानकारी नहीं देता है.

(*5*)2 ऑनलाइन एक्टिविटी ट्रैकिंग पर रोक- Apple ने एक बड़ा प्राइवेसी फीचर अपडेट किया है जिसमें iOS 14.5 में एक नियम जोड़ा है. इस नियम में सभी ऐप डेवलपर्स को यूजर डेटा को विज्ञापन के लिए इस्तेमाल करने से पहले इसकी मंजूरी लेना अनिवार्य है. यानि इसके बाद कोई भी ऐप आपकी एक्टिविटी को ऑनलाइन ट्रैक नहीं कर सकता है. इसके लिए यूजर से परमिशन लेनी होगी. इसके अलावा यूजर क्या सर्च करता है उसे भी ट्रैक नहीं किया जा सकता.

(*5*)3 फर्जी ऐप की पहचान- Apple अपने यूजर को काफी सुरक्षित ऐप उपलब्ध कराता है. इसके लिए कंपनी के नियम काफी सख्त बनाए गए हैं. किसी भी ऐप को यूजर को अपनी पूरी जानकारी देनी होगी. जिसे आप वेरिफाई कर सकते हैं. ऐसा होने से फर्जी ऐप को Apple App पर लिस्ट होने से रोका जाता है. जबकि एंड्राइड स्मार्टफोन में क्लोन ऐप और क्लिकबेट ऐप काफी मिलते हैं.

(*5*)4 कम जानकारी देकर चलाएं ऐप- Apple की ओर से ऐप डेवलपर्स को यूजर्स की मामूली जानकारी के बाद ही ऐप रन करने की पॉलिसी लागू है, आपकी वही जानकारी मांगी जाती है जो ऐप के रन होने के लिए बेहद जरूरी है. जबकि एंड्राइड फोन में आपकी काफी पर्सनल जानकारी भी ली जाती है. इसलिए ज्यादातर ऐप आपकी मीडिया फाइल, कॉन्टैक्ट बुक को भी एक्सेस कर रहे हैं.

(*5*)5 कैमरा और माइक परमिशन- अगर कोई iOS ऐप चुपचाप आपके माइक और कैमरे को एक्सेस कर रहा है, तो iPhone में येलो और ग्रीन डॉट से इसका पता लगाया जा सकता है. ऐसा होने पर आपको येलो और ग्रीन डॉट का नोटिफिकेशन दिखाई देगा. इससे ऐप की सीक्रेट रिकॉर्डिंग का पता लगा सकते हैं. अगर कोई आपके अकाउंट आईडी और पासवर्ड को चोरी करता है तो Apple आपको तुरंत आगाह कर देता है. ये फीचर्स iPhone को एंड्रॉइड फोन से काफी अलग बनाते हैं.

Source link

Most Popular

EnglishGujaratiHindiMarathiUrdu